महर्षि स्वामी दयानन्द सरस्वती के जन्म दिवस पर विशेष

महर्षि स्वामी दयानन्द सरस्वती (१८२४-१८८३) आधुनिक भारत के महान चिन्तक, समाज-सुधारक व देशभक्त थे। उनका बचपन का नाम ‘मूलशंकर’ था।

उन्होंने ने १८७५ में एक महान आर्य सुधारक संगठन – आर्य समाज की स्थापना की। वे एक सन्यासी तथा एक महान चिंतक थे। उन्हों ने वेदों की सत्ता को सदा सर्वोपरि माना। स्वामीजी ने कर्म सिद्धान्त, पुनर्जन्म, ब्रह्मचर्य तथा सन्यास को अपने दर्शन के चार स्तम्भ बनाया।

स्वामीजी प्रचलित धर्मों में व्याप्त बुराइयों का कड़ा खण्डन करते थे चाहे वह सनातन धर्म हो या इस्लाम हो या ईसाई धर्म हो। अपने महा ग्रंथ सत्यार्थ प्रकाश में स्वामीजी ने सभी मतों में व्याप्त बुराइयों का खण्डन किया है। पर वह सनातन धर्मका खंडन नहीं करपाए उनके सत्यार्थ प्रकाश का खंडन स्वामि करपात्रीने वेदार्थपारिजात नाम के पुस्तक में किया और ज्वालाप्रसाद मिश्रने दयानंदतिमिरभास्करमें किया है, जिसका अबतक किसीने खंडन नहीं किया | उनके समकालीन सुधारकों से अलग, स्वामीजी का मत शिक्षित वर्ग तक ही सीमित नहीं था अपितु आर्य समाज ने आर्यावर्त (भारत) के साधारण जन मानस को भी अपनी ओर आकर्षित किया।

स्वामी दयानन्द के प्रमुख अनुयायियों में लाला हंसराज ने १८८६ में लाहौर में ‘दयानन्द एंग्लो वैदिक कॉलेज’ की स्थापना की तथा स्वामी श्रद्धानन्द ने १९०१ में हरिद्वार के निकट कांगड़ी में गुरुकुल की स्थापना की।

anniversaryдержатель для полотенцаloft проект домакаркасное строительство дома проектыприбор для лечения насморкапогода в турции на майские праздникиtranslate english into dutchпродвижение рекламы в интернете

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *